GSblog

अंबेडकर सोशल इनोवेशन और इनक्यूबेशन मिशन | ASIIM

ASIIM क्या है?

  • इस मिशन की शुरुआत 2020 में की गई।
  • ASIIM को वेंचर कैपिटल फंड के तहत शुरू किया गया है।
  • इसका उद्देश्य उच्च शिक्षण संस्थानों में अध्ययनरत अनुसूचित जाति के छात्रों के बीच नवाचार एवं उद्यम को बढ़ावा देना।
  • मंत्रालय: सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय

ASIIM का उद्देश्य

  • दिव्यांगों को विशेष वरीयता के साथ अनुसूचित जाति के युवाओं में उद्यमिता को बढ़ावा देना है।
  • विज्ञान और प्रोद्योगिकी विभाग द्वारा स्थापित प्रोद्योगिक व्यापार इनक्यूबेटर के माध्यम से 2024 तक 1000 अभिनव विचारों का समर्थन करना।
  • स्टार्ट-अप शुरू करने के विचारों को बढ़ावा देना
  • इक्विटी सहयोग प्रदान करके वाणिज्यिक स्तर तक पहुंचाना
  • अभिनव विचारों वाले छात्रों को उद्यम शुरू करने के लिए प्रोत्साहित करना।

मिशन की प्रमुख बातें

  • इस मिशन के तहत विभिन्न उच्च शिक्षण संस्थानों में प्रोद्योगिकी व्यापार इनक्यूबेटर (TBI) के माध्यम से 2020 से अगले 4 वर्षों में स्टार्ट-अप विचारों के साथ 1000 अनुसूचित जाति के युवाओं की पहचान की जाएगी।
  • उन्हें इक्विटी फंडिंग के तौर पर 3 साल में 30 लाख का फंड दिया जाएगा ताकि वे अपने स्टार्ट-अप के विचार को वाणिज्यिक उद्यम में परिवर्तित कर सकें।
  • सफल उपक्रम, अनुसूचित जाति के लिए वेंचर कैपिटल फंड से 5 करोड़ तक की वेंचर फंडिंग के लिए योग्य होंगे।

वेंचर कैपिटल फंड (VCF-SC)

  • सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय ने अनुसूचित जाति/ दिव्यांग युवाओं में उद्यमिता विकसित करने और उन्हें ‘नौकरी’ देने वाले उद्यमी बनाने के लिए 2014-15 में अनुसूचित जाति के लिए वेंचर कैपिटल फंड (VCF-SC) की शुरुआत की थी।
  • इसका उद्देश्य अनुसूचित जाति के उद्यमियों की संस्थाओं को रियायती वित्त प्रदान करना।
  • इस फंड के तहत अनुसूचित जाति के उद्यमियों द्वारा प्रोन्नत 117 कंपनियों को बिजनेस वेंचर स्थापित करने के लिए वित्तीय सहायता मंजूर की गई है।

साथियों यदि आपको इस लेख से जुड़ा कोई भी सवाल हो तो Comment में जरूर बताएं, और अगर आपको लगता है की इसे और बेहतर किया जा सकता है तो अपने सुझाव देना ना भूलें।
ऐसी ही अन्य जानकारी के लिए GS blog पर आते रहें, तथा इसे और बेहतर बनाने में अपना सहयोग दें।

Govt Schemes Tags:, , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published.

RSS
WhatsApp